Start a new topic

सांसद आदर्श ग्राम गोटाटोला



सांसद आदर्श ग्राम योजना का मूलमंत्र है स्थानीय ग्रामीणों की पहल और सहभागिता से विकास की ओर अग्रसर होना, जिसमें सांसद अपना मार्गदर्शन देंगे। इस मूलमंत्र को आत्मसात करते हुए ग्राम गोटाटोला के निवासियों ने सकारात्मक बदलाव की कहानी लिखनी शुरू कर दी है। गोटाटोला की सबसे महत्वपूर्ण उपलब्धि है कि यहां के ग्रामीण स्वप्रेरणा से आगे बढ़ते हुए अनेक सकारात्मक पहल के साथ अपने गांव की तस्वीर बदलने के प्रयास में लगे हुए हैं। 




ग्राम गोटाटोला जिला मुख्यालय राजनंदगांव से 90 और जनपद मुख्यालय से 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित ग्राम गोटाटोला, जहां 11 अक्टूबर 2014 को सांसद आदर्श ग्राम योजना की (SAGY) शुरुआत की गई | एक सम्पूर्ण ग्राम के रूप में अपनी पहचान बना रहे इस गाँव में 94.86 प्रतिशत जनसंख्या साक्षर है जिसमें महिलाओं की साक्षरता दर 99.94 प्रतिशत , तो वही पुरुषों की साक्षरता दर 89.59 प्रतिशत है |



संपूर्ण रूप से स्वच्छ गाँव का रूप ले रहे इस ग्राम के शत-प्रतिशत घरों में बिना शासकीय सहायता शौचालयों का निर्माण हो चुका है | पर्यावरण की सुरक्षा और स्वछता हेतु यह गाँव में पोलीथिन के इस्तेमाल हेतु पूर्णतः प्रतिबंधित है | इनके अलावा बच्चों में कुपोषण दूर करने हेतु यहाँ "सुपोषण तिहार" योजना भी शुरू कर दी गई है | स्वच्छता एवं पेयजल व्यवस्था में आगे इस ग्राम में 75 घरों में घरेलू नल कनेक्शन और 50 हैंडपंप हैं | 






बांस, शिल्प और बुनकर कला में प्रशिक्षित इस ग्राम में करीब 110 युवाओं द्वारा स्वयं का व्यवसाय स्थापित है | साथ ही यहाँ युवाओं को कंप्यूटर प्रशिक्षण दिया जा रहा है | शिक्षा में सुधार हेतु आज गांव में शिक्षा समिति बनी हुई है। गांव में मानसिक स्वास्थ एवं व्यक्तित्व विकास हेतु इस समिति द्वारा विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं एवं योग शिविर का आयोजन भी किया जाता है।

स्वच्छता एवं पर्यावरण समिति : गोटाटोला ग्राम को स्वच्छ बनाने एवं पर्यावरण की सुरक्षा एवं सुधार हेतु इस समिति का गठन किया गया है। इसके सदस्य गांव को स्वच्छ एवं सुन्दर बनाने हेतु लगातार प्रयासरत है। साथ ही समिति गांव में पर्यावरण के प्रति जागरुकता का प्रसार भी कर रही है। 


महिला सशक्तिकरण एवं नशा मुक्ति समिति : गांव में इस समिति के सदस्यों द्वारा ग्रामीण महिलाओं का आत्मनिर्भर कर सशक्तिकरण की दिशा उल्लेखनीय कार्य किए जा रहें है। गांव में शराब एवं अन्य प्रकार के नशे आदि के सेवन व बिक्री पूर्णतः प्रतिबंधित करने में इसके सदस्यों का सराहनीय योगदान रहा है। 



सुपोषण एवं स्वास्थ्य समिति : गांव को स्वस्थ एवं कुपोषण मुक्त बनाने में इसके सदस्य लगातार कार्य कर रहे है। गांव के कुपोषित बच्चों को सुपोषित की श्रेणी में लाने हेतु इस समिति द्वारा समय-समय पर सुपोषण त्योहार का आयोजन कर पोषण युक्त आहार प्रदान किया जाता है। 




11 अक्टूबर 2014 को प्रारंभ की गई इस योजना के तहत जिला मुख्यालय राजनंदगांव के समीपस्थ ग्राम गोटाटोला को आदर्श ग्राम योजना के तहत एक सम्पूर्ण ग्राम के रूप बनाने हेतु विभिन्न बदलाव किये जा रहे हैं | 

(Refer to Attachment for Development Details)
docx

1 person likes this idea
Login or Signup to post a comment